पैगम्बर मुहम्मद कल्कि अवतार नहीं

पैगम्बर मुहम्मद कल्कि अवतार नहीं – जाकिर नायक और स्वच्छता वाले सलीम मियां को जवाब 

 

 

by Rakesh Singh (सृजन)

 

पैगम्बर मुहम्मद कल्कि अवतार नहीं

 

सबसे पहले ये बता दूं की ये लेख मैंने क्यूँ लिखा? हिंदी ब्लॉग जगत मैं डॉ. जाकिर के चेलों (स्वच्छता वाले सलीम खान) द्वारा लगभग हर सप्ताह एक दो ब्लॉग “पैगम्बर मुहम्मद ही कल्कि अवतार हैं” लिखते रहे हैं | हमने कई जवाब भी दिए पर वो कहाँ सुननेवाले ! गूगल पे हिंदी मैं सर्च करो तो वही स्वच्छता वाले (वास्तव मैं अस्वच्छ) सलीम खान ही सबसे आगे आते हैं और उसका कोई सही जवाब देता हुआ ब्लॉग नहीं मिला | इसलिए सोचा के झूठे प्रचार का जवाब देना ही चाहिए | मैं संस्कृत का ज्ञानी नहीं इसलिए संस्कृत शब्दों और श्लोकों के अर्थ के लिए उचित reference देने की कोशिश की है |

 

क्या पैगम्बर मुहम्मद कल्कि अवतार हैं ? उत्तर : नहीं, निम्न बिन्दुओं पे गौर करें :

 

* हिन्दू धर्म ग्रंथों मैं कलि युग का काल ४,३२,००० (चार लाख बत्तीस हज़ार वर्ष) बताया गया है | कलि युग के अंत मैं ही भगवान् स्वयेम कल्कि के रूप मैं पृथ्वी पे अवतार लैंगे (ref: भागवतम 2.7.३८ –http://srimadbhagavatam.com/2/7/38/en ) | कलि युग का आरम्भ लगभग 3102 BC माना गया है (ref :http://www.harekrsna.com/sun/features/04-09/features1345.htm) | अब तक कलि युग के लगभग पॉँच हज़ार वर्ष ही बीते हैं, कल्कि अवतार आने मैं अभी लाखों वर्ष बाकी हैं | क्या यहीं ये साबित नहीं हो जाता की मुहम्मद साहब कल्कि अवतार हैं ही नहीं !

 

* डॉ. जाकिर और अन्य मुस्लिम विचारक जिन हिन्दू धर्म ग्रंथों का सन्दर्भ दे रहे हैं, उन्ही ग्रंथों में राम, कृष्ण…. को साक्षात भगवन का अवतार बताया गया है | क्या हमारे मुसलमान भाई कल्कि अवतार से पहले की अवतारों (राम, कृष्ण….) को भगवान् मानते हैं ? ये प्रश्न जैसे ही पूछता हूँ इनके बड़े-बड़े विचारक बेशर्मी से कहते हैं, नहीं हम तो सिर्फ मुहम्मद साहब को ही अवतार मानते हैं और इससे पहले की सारे अवतार झूठे हैं | मतलब की आप हमारे मुहम्मद साहब को कल्कि अवतार मान कर इस्लाम कबुल कर लो, हम तो आपके अवतारों राम, कृष्ण … को मानते भी नहीं !!! अब बताईये इस्लाम के बड़े-बड़े विचारकों को क्या कहा जाए ?

 

* भागवतम (12.2.१७ – http://srimadbhagavatam.com/12/2/17/en) कहता है : भगवान् विष्णु खुद कल्कि के रूप मैं धरती पे अवतार लेंगे | मतलब भगवान् विष्णु = कल्कि अवतार | पर डॉ. जाकिर और उनके चेले कहते हैं की मुहम्मद साहब तो पैगम्बर हैं, अल्लाह कोई और है | जबकी हिन्दू ग्रन्थ साफ़ कहता है : कल्कि अवतार कोई पैगम्बर नहीं बल्कि भगवान् विष्णु का अवतार होगा | एक कम बुद्धि वाला इंसान भी ये बात भली भांती समझता है, फिर डॉ. जाकिर और सलीम भाई जैसे इस्लाम जगत के बड़े विद्वानों ने क्यों नहीं समझा इसे अबतक? समझेंगे भी कैसे इनके पथ निर्देशक खुद ही गलत रास्ते पे जो दौड़ रहे हैं |

 

* कई जगहों पे वेदों का उदाहरण दे कर कहते हैं की वेदों मैं मुहम्मद साहब के बारे मैं फलां-फलां बातें बतायी गई है | वस्तुतः वेदों मैं कुल १,००,००० (एक लाख) ऋचाएं/मन्त्र थी , घटते घटते आज सिर्फ २०-२१ हजार ही उपलब्ध रह गई हैं | एक पढ़ा-लिखा इंसान (भले ही उसे कितनी भी अच्छी संस्कृत क्यों ना आती हो) इन २०-२१ हजार रिचाओं को अपने बल बूते नहीं समझ सकता, ये ग्यानी जन कह गए हैं | वेदों को समझने के लिए गुरु-शिष्य परम्परा आवाश्यक है | शायद यही कारण है की वेद कभी गीता, महाभारत, रामायण या अन्य पुराण की तरह आम जन के लिए सहज उपलब्ध भी नहीं हुआ और ना ही इसे ऐसे पढा जाता है | डॉ. जाकिर और उनके चेलों (स्वच्छता वाले सलीम मियां) से ये पूछना चाहता हूँ की आपने वेद के २०-२१,००० ऋचाएं बिना गुरु (कोई गुरु हो तो बताएं) के ही पढ़ कर समझ भी लिया वो भी ४-५ वर्षों मैं ही ? आपके कुरान मैं लगभग ६२३६ आयात ही हैं, तो आपने कुरान से कई गुना ज्यादा समय वेद पढने मैं लगाया , वाह क्या बात है ? अब जबकी मुस्लिम विद्वान् हिन्दू ग्रन्थ पढने मैं ज्यादा समय देते हैं तो कोई पागल हिन्दू ही इनके कुरान को पढ़ेगा, क्यूँ ?

 

* वेद के किसी भी मन्त्र मैं मुहम्मद शब्द का उल्लेख तक नहीं है, फिर भी बड़े बेशर्मी से ये कहते हैं नराशंस शब्द का अर्थ मुहम्मद और अहमद है | नराशंस शब्द का वास्तविक अर्थ जानने के लिए youtube लिंक देख सकते हैं :http://www.youtube.com/watch?v=AHOv-v-EfkE | जाकिर और उनके चेलों (सलीम खान) के हिसाब से संस्कृत के बड़े बड़े पडित – ज्ञानी किसी को संस्कृत नहीं आती, सबसे बड़े ज्ञाता तो सलीम मियां और जाकिर नायक हैं !

* पैगम्बर मुहम्मद पे भविष्य पुराण क्या कहता है जानने के लिए गूगल मैं search करें, अंग्रेजी मैं ढेर सारी सामग्री मिल जायेगी | bhavishyapuran नाम से (शायद) एक ब्लॉग भी है जहाँ इसपर सामग्री उपलब्ध है |

 

स्वच्छता वाले सलीम भाई के गुरु डॉ. ज़ाकिर नायक के बारे मैं कुछ मुसलमान भाई क्या राय रखते हैं, देखने के लिए youtube लिंक पे क्लिक करें youtube लिंक http://www.youtube.com/watch?v=JL52VoKUj78 – (NDTV रिपोर्ट )

 

http://raksingh.blogspot.in/2009/09/blog-post_03.html

 

कल्कि अवतार-मुहम्मद और हिन्दू धर्म ग्रन्थ

 

अल्लोपनिषद्- आइने में केवल सच ही सच

 

इतिहासकारों के अनुसार अल्लोपनिषद अकबर के समय में लिखा गया ग्रन्थ है जिसे जान बूझ कर अथर्ववेद के साथ जोड़ दिया गया. पवित्र वेदों में इस्लाम, मुहम्मद, कुरान का कोई जिक्र नहीं है. अकबर का जन्म 1542 AD में हुआ. मुहम्मद का जन्म 570 AD है. वेदों का समय काल 1500 BC से 600 BC है. यह काल निर्धारण वैज्ञानिक और प्रामाणिक है. अल्लोपनिषद की तरह कुछ अन्य क्षेपक (inserted text) भी मिलते हैं जो मुग़ल काल की देन हैं. भविष्य पुराण का समय 50BC से 1850 AD तक माना गया है. मुग़ल काल में इसमें इस्लाम और मुहम्मद से सम्बंधित श्लोक आदि जोड़े गए. अकबर का दीन इलाही (mixture of hindu and islam) भी इन क्षेपकों का प्रमुख कारण रहा है. भाषा इनमें अंतर स्पष्ट करती है. संस्कृत संसार की सबसे प्राचीन भाषा है. इसमें अल्ला शब्द है, जिसका अर्थ होता है पराशक्ति. कालांतर में यह शब्द अरबी भाषा में ले लिया गया. संस्कृत का आभार . हिंदू सृष्टि के कण कण में परमात्मा को मानते हैं, हिदुओं में ईश्वर की खोज हुई है अतः वृक्ष पूजन से लेकर सर्वशक्तिमान परमात्मा की खोज फिर उसको कण कण में देखना, सभी जड़ चेतन में उसे अनुभूत करना हिन्दू धर्म की विशेषता है. इसके अलावा उस अव्यक्त, अक्षर (shapeless,bodyless)को अनुभूत कर, समझकर उससे प्रेम करना उसके कोई भी मूर्त रूप (विग्रह} का पूजन बड़ी उच्च सोच का परिणाम है. सब में ईश अनुभूति ज्ञान और चेतना के उच्च स्तर की बातें हैं जिन्हेँ पड़कर नहीं बल्कि अनुभूति द्वारा समझा जा सकता है. यह जीवन विकास के अति उच्च स्तर की सोच और समझ है.

 

हिंदू सब प्राणियों के कल्याण की कामना करता है. यही नहीं प्रतिदिन प्रातः ईश पूजा में वह कहता है…..

 

अंतरिक्ष में शान्ति हो वह तुम्हारे लिए अनुकूल हो वायु में शान्ति हो वह तुम्हारे लिए अनुकूल हो अग्नि में मैं शान्ति हो वह तुम्हारे लिए अनुकूल हो जल में शान्ति हो वह तुम्हारे लिए अनुकूल हो पृथ्वी में शान्ति हो वह तुम्हारे लिए अनुकूल हो

 

परमात्मा सब पर कृपा करें.

 

कई लेखक ,ब्लोगेर्स अल्लोपनिषद. इस्लाम, मोहम्मद, पैगम्बर आदि आदि नामों से हिन्दू धर्म के विषय में अनर्गल प्रलाप कर रहे हैं. नाम दे रहे हैं भाई चारा. लिखने से पहले क्या लिख रहे हो जान लो. कृपया पड़े लिखों को कुतर्कों और अप्रमाणिक तथ्यों से गुमराह न करें. हिन्दू भी अपने धर्म ग्रंथों को पड़े. हिन्दू जानता है पौराणिक कहानी धर्म नहीं है, उसका सार धर्म है. वह कथा चाहे सत्य हो अथवा काल्पनिक, प्रतीकात्मक है. इसी प्रकार मूर्ती ईश्वर नहीं है, हमारा प्रेम उस मूर्ती, चित्र में प्राण प्रतिष्ठित करता है. उससे परमात्मा के प्रति भाव, प्रेम जागता है. वह हमारी आत्मा में समां जाता है. कर के देखो खुद समझ में आ जायेगा. यही मुसलमान भी समझें. जानो कण कण में भगवान. दूसरे के प्रति अपशब्द सर्वव्यापी, सर्वशक्तिमान का अपमान है. हिन्दुओं की धार्मिक सोच अन्य सोचों से कई हजार वर्ष आगे है. यही भविष्य की सोच होगी.

 

 

(इस लेख का उद्देश्य किसी की भावनाओं को ठेश पहुचाना नहीं अपितु डॉ. जाकिर और अन्य मुस्लिम भाईयों (स्वच्छ हिंदोस्ता वाले सलीम खान, और ना जाने कौन कौन ..) द्वारा कल्कि अवतार पे किये जा रहे झूठे प्रचारों से लोगों को अवगत करना है | ) 

 

more link :-

 

http://agniveer.com/2971/naikexposed-hi/

 

http://agniveer.com/479/prophet-puran/

 

http://agniveer.com/2932/muhammad-vedas-hi/

 

http://vedpuran.files.wordpress.com/2011/10/bavishya-puran.pdf

Advertisements